Aug 4, 2007

स्वामी विवेकानंद ने कहा है

"पढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता और एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान।' ध्यान के द्वारा ही हम इंद्रियों पर संयम रख सकते हैं। शम, दम और तितिक्षा अर्थात मन को रोकना, इन्द्रियों को रोकने का बल, कष्ट सहने की शक्ति और चित्त की शुद्धि तथा एकाग्रता को बनाए रखने में ध्यान बहुत सहायक होता है।"
"मानव-देह ही सर्वश्रेष्ठ देह है, एवं मनुष्य ही सर्वोच्च प्राणी है, क्योंकि इस मानव-देह तथा इस जन्म में ही हम इस सापेक्षिक जगत् से संपूर्णतया बाहर हो सकते हैं–निश्चय ही मुक्ति की अवस्था प्राप्त कर सकते हैं, और यह मुक्ति ही हमारा चरम लक्ष्य है।"
"जो मनुष्य इसी जन्म में मुक्ति प्राप्त करना चाहता है, उसे एक ही जन्म में हजारों वर्ष का काम करना पड़ेगा। वह जिस युग में जन्मा है, उससे उसे बहुत आगे जाना पड़ेगा, किन्तु साधारण लोग किसी तरह रेंगते-रेंगते ही आगे बढ़ सकते हैं।"
"जो महापुरुष प्रचार-कार्य के लिए अपना जीवन समर्पित कर देते हैं, वे उन महापुरुषों की तुलना में अपेक्षाकृत अपूर्ण हैं, जो मौन रहकर पवित्र जीवनयापन करते हैं और श्रेष्ठ विचारों का चिन्तन करते हुए जगत् की सहायता करते हैं। इन सभी महापुरुषों में एक के बाद दूसरे का आविर्भाव होता है–अंत में उनकी शक्ति का चरम फलस्वरूप ऐसा कोई शक्तिसम्पन्न पुरुष आविर्भूत होता है, जो जगत् को शिक्षा प्रदान करता है।"
"आध्यात्मिक दृष्टि से विकसित हो चुकने पर धर्मसंघ में बना रहना अवांछनीय है। उससे बाहर निकलकर स्वाधीनता की मुक्त वायु में जीवन व्यतीत करो।"
"मुक्ति-लाभ के अतिरिक्त और कौन सी उच्चावस्था का लाभ किया जा सकता है? देवदूत कभी कोई बुरे कार्य नहीं करते, इसलिए उन्हें कभी दंड भी प्राप्त नहीं होता, अतएव वे मुक्त भी नहीं हो सकते। सांसारिक धक्का ही हमें जगा देता है, वही इस जगत्स्वप्न को भंग करने में सहायता पहुँचाता है। इस प्रकार के लगातार आघात ही इस संसार से छुटकारा पाने की अर्थात् मुक्ति-लाभ करने की हमारी आकांक्षा को जाग्रत करते हैं।"
"हमारी नैतिक प्रकृति जितनी उन्नत होती है, उतना ही उच्च हमारा प्रत्यक्ष अनुभव होता है, और उतनी ही हमारी इच्छा शक्ति अधिक बलवती होती है।"
"मन का विकास करो और उसका संयम करो, उसके बाद जहाँ इच्छा हो, वहाँ इसका प्रयोग करो–उससे अति शीघ्र फल प्राप्ति होगी। यह है यथार्थ आत्मोन्नति का उपाय। एकाग्रता सीखो, और जिस ओर इच्छा हो, उसका प्रयोग करो। ऐसा करने पर तुम्हें कुछ खोना नहीं पड़ेगा। जो समस्त को प्राप्त करता है, वह अंश को भी प्राप्त कर सकता है।"
"पहले स्वयं संपूर्ण मुक्तावस्था प्राप्त कर लो, उसके बाद इच्छा करने पर फिर अपने को सीमाबद्ध कर सकते हो। प्रत्येक कार्य में अपनी समस्त शक्ति का प्रयोग करो।"
"सभी मरेंगे- साधु या असाधु, धनी या दरिद्र- सभी मरेंगे। चिर काल तक किसी का शरीर नहीं रहेगा। अतएव उठो, जागो और संपूर्ण रूप से निष्कपट हो जाओ। भारत में घोर कपट समा गया है। चाहिए चरित्र, चाहिए इस तरह की दृढ़ता और चरित्र का बल, जिससे मनुष्य आजीवन दृढ़व्रत बन सके।"
"संन्यास का अर्थ है, मृत्यु के प्रति प्रेम। सांसारिक लोग जीवन से प्रेम करते हैं, परन्तु संन्यासी के लिए प्रेम करने को मृत्यु है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम आत्महत्या कर लें। आत्महत्या करने वालों को तो कभी मृत्यु प्यारी नहीं होती है। संन्यासी का धर्म है समस्त संसार के हित के लिए निरंतर आत्मत्याग करते हुए धीरे-धीरे मृत्यु को प्राप्त हो जाना।"

स्वामी विवेकानंद

20 comments:

Udan Tashtari said...

साधुवाद इस प्रस्तुति के लिए

Sanjeet Tripathi said...

शुक्रिया!!

DR PRABHAT TANDON said...

बहुत सुन्दर !

हिन्दु चेतना said...

स्वामी विवेकानन्द जी के जन्मदिन की बधाई

स्वामी जी ने कहा है

यदि कोई भंगी हमारे पास भंगी के रूप में आता है, तो छुतही बिमारी की तरह हम उसके स्पर्श से दूर भागते हैं। परन्तु जब उसके सीर पर एक कटोरा पानी डालकर कोई पादरी प्रार्थना के रूप में कुछ गुनगुना देता है और जब उसे पहनने को एक कोट मिल जाता है-- वह कितना ही फटा-पुराना क्यों न हो-- तब चाहे वह किसी कट्टर से कट्टर हिन्दू के कमरे के भीतर पहुँच जाय, उसके लिए कहीं रोक-टोक नहीं, ऐसा कोई नहीं, जो उससे सप्रेम हाथ मिलाकर बैठने के लिए उसे कुर्सी न दे! इससे अधिक विड्म्बना की बात क्या हो सकता है? आइए, देखिए तो सही, दक्षिण भारत में पादरी लोग क्या गज़ब कर रहें हैं। ये लोग नीच जाति के लोगों को लाखों की संख्या मे ईसाई बना रहे हैं। ...वहाँ लगभग चौथाई जनसंख्या ईसाई हो गयी है! मैं उन बेचारों को क्यों दोष दूँ? हें भगवान, कब एक मनुष्य दूसरे से भाईचारे का बर्ताव करना सीखेगा।

joshi kavirai said...

बन्धु, वर्तनी-दोष अवश्य सुधारें, भाषा के प्रति यह अपराध है, यदि आलस्य है तो और भी बुरा | यदि विवेकानंद का नाम ले रहे हो तो इतना तो हमसे भी सुन ही सकते हो :)

KUSHAL NISHAD said...

आपकी प्रस्‍तुति‍ लाजवाब है.

Yash said...

Your Presentation is very nice... i want to be a foolower of Great Swamiji Vivekanandji

Yash said...

Your Presentation is very nice... i want to be a foolower of Great Swamiji Vivekanandji

Yash said...

Your Presentation is very nice... i want to be a follower of Great Swamiji Vivekananda

asish said...

Hay man I laicet vivekanand updesh.

asish said...

Hay my name is ashish.I am simpal man.You Fraindcip me.

BANTI said...

मै स्वामी विवेकानन्द का अवतार हूँ

Anonymous said...

swami ji ki jay ho. ham unake mansikata ko hakikat me badalenge.

Satish said...

हिन्दू चेतना से मैं पूछना चाहूँगा की अगर दलित ईसाई धर्म अपना रहे है तो उनका क्या दोष है इसमें?...महोदय जरा अपने हिन्दू धर्म से भी तो पूछिए जिसने इन शुद्रो पर शिक्षा ग्रहण न करने,धन अर्जित न करने,वेद न पड़ने और सबसे दर्दनाक स्तिथि तो ये थी की इनको हिन्दू समाज स्पर्श भी नहीं करता था....आखिर ये बेचारे करे तो क्या करे?

मनीष भारतीय said...

स्वामी जी के बारे मे या उन तारीफ के शब्द शायद शब्दकोष मे भी ना हो

Unknown said...

I follwo swamivivekanand's thought...that help to me forever.

upendra yadav said...

satish bhai ye to shamasya ka hal nahi hai:-ham apne path par chal rahe hai thori shamasya aye to apna path hi badal de? By:-upendra yadav

yogesh khule said...

स्वामिजी हर भारतीय युवकोंका प्रेरनास्रोत है यदि हम युवक स्वामीजी जैसा काम करे तो भारत दुनिया को मार्गदर्शन करेगा ....जय हिंद

yogesh khule said...

हम युवको को स्वामीजी के कार्य को दोहराना चाहिए ऐसा करके हम भारतीय दुनिया को मार्गदर्शन कर सकते है.....जय हिंद

yogesh khule said...

जय हिंद....